बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता hasya kavita for kids

Rate this post

बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता : जैसे की आप सब भली-भाती यह बातें जानते है. की बच्चें मन के सच्चे और अकाल के कच्चे होते है. और बचपन में जो माता पिता द्वारा बच्चों को जो संस्कार दिए जाते है. वह उन्ही आदर्शो व संस्कारों के मार्ग पर चलते है.उन विचारों से वह ज्यादा प्रेरित होते हैं.

यहाँ पर हमने कुछ बेहतरीन बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता (hasya kavita for kids) लाये है. जो बहुत ही मजेदार होने वाली है. जिसे आप अपने बच्चें को पढ़ा सकते है. पैरेंट्स यहाँ कविता को अपने बच्चों को जरूर

इसमें हमने बहुत सारे केटेगरी के हिंदी बच्चों के हास्य कविता को ऐड किया है. जो बहुत ही ज्यादा प्रेरणा दायी और hasya kavita for kids है.

बच्चें बचपन मैं ऐसे बहुत से हरकते करते है जो बहुत ही मजेदार और सरहानीय होते है जो उनके भोलेपन को दर्शते है की वह कितने भोले और मासूम होते है. छोटे बच्चे बहुत ही नटखट और प्यारे होते हैं. इनके मन में सबके लिए एक सामान प्यार होता हैं.


विषय सूचि

बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता | hasya kavita for kids


बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता | Hasya Kavita For Kids
बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता | Hasya Kavita For Kids

बच्चों के लिए हिन्दी की हास्य कविताएँ


(1)

मछ्ली जल की रानी है – बच्चों की हिन्दी की हास्य कविता

मछ्ली जल की रानी है
जीवन उसका पानी है
मछ्ली जल की रानी है
जीवन उसका पानी है
हाथ लगाओ तो डर जाएगी
बाहर निकालो तो मर जाएगी
बाहर निकालो तो मर जाएगी
पानी मे डालो तो तैर जाएगी
दाना खिलाओगे तो खा जायेगी
मछ्ली जल की रानी है
जीवन उसका पानी है
मछ्ली जल की रानी है
जीवन उसका पानी है.

(2)

लकड़ी की काठी – बच्चों की हास्य कविता

लकड़ी की काठी,
काठी पे घोड़ा
घोडे की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी,
काठी पे घोड़ा
घोडे की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
घोड़ा पहुंचा चौक में चौक में था नाई
घोड़े जी की नाई ने हजामत जो बनाई
टग-बग, टग-बग टग-बग, टग-बग
घोड़ा पहुंचा चौक में चौक में था नाई
घोड़े जी की नाई ने हजामत जो बनाई
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी,
काठी पे घोड़ा
घोडे की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
ला ला ला ला ला ला ला..
ला ला ला ला ला ला ला..
घोड़ा था घमंडी
पहुंचा सब्जी मंडी
सब्जी मंडी बरफ पड़ी थी बरफ में लग गई ठंडी
टग-बग, टग-बग टग-बग, टग-बग
घोड़ा था घमंडी
पहुंचा सब्जी मंडी
सब्जी मंडी बरफ पड़ी थी बरफ में लग गई ठंडी
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी,
काठी पे घोड़ा
घोडे की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
घोड़ा अपना तगड़ा है देखो कितनी चर्बी है
चलता है महरौली में पर घोड़ा अपना अरबी है
टग-बग, टग-बग टग-बग, टग-बग
घोड़ा अपना तगड़ा है देखो कितनी चर्बी है
चलता है महरौली में पर घोड़ा अपना अरबी है
बाँह छुड़ा के दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
लकड़ी की काठी, काठी पे घोड़ा
घोडे की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा
ला ला ला ला ला ला ला..
ला ला ला ला ला ला ला..

(3)

प्यारी-प्यारी गुड़िया  – बच्चों की हास्य कविता

मेरी गुड़िया प्यारी-प्यारी 
बातें उसकी न्यारी-न्यारी 
नन्हीं सी यह फूल सी बच्ची 
छोटी सी पर दिल की सच्ची
कोमल-कोमल हाथों वाली 
नीली-नीली आँखों वाली 
गोरे-गोरे गाल हैं उसके 
भूरे-भूरे बाल हैं उसके

(4)

भारी मेरा बस्ता – बच्चों के लिए हिन्दी की हास्य कविता

मुझ से भारी मेरा बस्ता
हो गई मेरी हालत खस्ता
इसे उठाकर आना मुश्किल
सभी पुस्तके लाना मुश्किल 
कोई टीचर को समझाये
इसको कुछ हल्का करवाए

(5)

चिड़िया के बच्चे चार – बच्चों की हास्य कविता हिंदी में

चिड़िया के थे बच्चे चार
घर से निकले पंख पसार

दूर-दूर तक घूम के आये
घर आकर के वे चिल्लाए

देख लिया हमने जग सारा
अपना घर है सबसे प्यारा

(6)

जल की बूदें – बच्चों की हास्य कविता हिंदी में

नन्ही जल की बूदें
प्यारी-प्यारी जल की बूंदें 

बरसातों में खेलें-कूदें
ऊपर से गिरकर मिट जाए

सभी बच्चों का दिल बहलाए
सारे मिल बूंदें बन जाएं
तब मानव की प्यास बुझाएं

पानी को हम चलो बचाएं
बिना वजह इसे न बहाएं

(7)

कोयल रानी – बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता

कोयल रानी कोयल रानी
काली काली बड़ी सयानी

किस झरने  का पीती पानी 
हो गयी जिससे मीठी वाणी

(8)

लालाजी ने केला खाया – बच्चों की हास्य कविता हिंदी में

लालाजी ने केला खाया
केला खा के मुंह पिचकाया

मुंह पिचका के कदम बढाया
पैर के नीचे छिलका आया

लालाजी तो गिरे धड़ाम
मुंह से निकला हाय राम हाय राम हाय राम.

(9)

कंप्यूटर है इसका नाम – बच्चों की हास्य कविता हिंदी में

तरह तरह के करता काम
कंप्यूटर है इसका नाम

इसमे होती C D ड्राइव
दिखलाती तुमको सब लाइव

इसमे होता एक मॉनिटर
जितनी चाहो देखो पिक्चर
तरह तरह के खेलो खेल
इससे भेजो तुम E-मेल

(10)

देखो एक मदारी आया – बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता

देखो एक मदारी आया
साथ मैं बन्दर-बंदरिया लाया

डम डम डमरू बजा रहा है
अपना बन्दर नचा रहा है

चली बंदरिया देकर ताने
बन्दर उसको लगा मनाने

hasya kavita for kids in hindi


(1)

बिस्तर पर मै सोयी थी – Hasya Kavita For Kids

बिस्तर पर मै सोयी थी

सपनो मे मैं खोयी थी

एक परी उड़कर आई

मुझे देखकर मुस्काई|

तरह तरह के दे उपहार

चली गयी वह पंख पसार

दोनों ने है रंग जमाया

कितना सुन्दर खेल दिखाया

(2)

कौवा आया – hindi Hasya Kavita For Kids

कौवा आया कौवा आया
छीन किसी से रोटी लाया

एक लोमड़ी बड़ी सायानी
उसमे मुहं मे आया पानी

बोली भैया गीत सुनाओ
गीत सुनाकर मन बहलाओ

सुनकर यह कौवा हर्षाया
कावं कावं करके कुछ गाया
गिरी चोच से उसकी रोटी
भाग उठी लोमड़ी मोटी.

(3)

लाल बत्ती – Hasya Kavita For Kids in hindi

लाल बत्ती कहती थम
चलते चलते रुकते हम 

पीली कहती होशियार
रुकने को हो जा तैयार

हरी बताये चलते जाओ
आगे आगे बढ़ते जाओ

(4)

मेरा देश निराला – Hasya Kavita For Kids

मेरा देश निराला है
यहाँ कोई गोरा कोई काला है

पर आपस मे प्यार है
सुन्दर सुन्दर त्यौहार है

यहां हर बच्चा वीर है
शक्ति की तस्वीर है

देश का नाम है हिंदुस्तान
हम सब इसकी है संतान

(5)

कहना हमेशा बड़ो का मानते – Hasya Kavita For Kids

कहना हमेशा बड़ो का मानते
माता पिता को शीश नवाते,
अपने गुरुजनों का मान बढ़ाते
वे ही बच्चे अच्छे कहलाते।
नहा-धोकर रोज शाला जाते
पढ़ाई में सदा अव्वल आते

वे ही बच्चे अच्छे कहलाते।
कभी न किसी से झगड़ा करते
बात हमेशा सच्ची कहते,
ऊंच-नीच का भाव न लाते
वे ही बच्चे अच्छे कहलाते।
कठिनाइयों से कभी न घबराते

हमेशा आगे ही बढ़ते जाते,
मीठी बातों से सबका मन बहलाते
वे ही बच्चे अच्छे कहलाते।

(6)

बिस्तर पर मै सोयी थी – Hasya Kavita For Kids

परीलोक की कथा-कहानी
हँसकर मुझे सुनातीं मम्मी,
फूलों वाले, तितली वाले
गाने मुझे सिखातीं मम्मी।
खीर बने या गरम पकौड़े

पहले मुझे खिलातीं मम्मी,
होमवर्क पूरा कर लूँ तो-
टॉफी-केक दिलातीं मम्मी।
काम अगर मैं रहूँ टालता
तब थोड़ा झल्लातीं मम्मी,

झटपट झूठ पकड़ लेती हैं
मन-ही-मन मुसकातीं मम्मी।
रूठूँ तो बस बात बनाकर
पल में मुझे मनातीं मम्मी,
बड़ा लाड़ला तू तो मेरा-
कहकर मुझे रिझातीं मम्मी।

(7)

मेढक मामा – Hasya Kavita For Kids in hindi

मेढक मामा, मेढक मामा,
क्यों करते हो जी हंगामा?
टर्र-टर्र की सुनकर तान,
फूट गए अपने तो कान!

छोड़ो भी यह गाल फुलाना,
दिन भर राग बेसुरा गाना,
बात हमारी मानो, मामा,
पहले सीखो सारेगामा!

(8)

सड़कें – hindi Hasya Kavita For Kids

कहाँ-कहाँ से आतीं सड़कें
और कहाँ को जाती हैं,
दौड़-दौड़कर जाती हैं ये
दौड़-दौड़कर आती हैं।
पर शायद यह सही नहीं है

सड़क वहीं पर रहती है,
दौड़ा तो करते हैं हम-तुम
सड़क सभी कुछ सहती है।
बोलो-बोलो, सड़क, तुम्हारी
छाती पर है बोझा कितना?

समझ न पाओगे तुम भैया-
बोझा है छाती पर इतना!
इतना बोझा ढोकर भी मैं
आह नहीं, पर करती हूँ,
मेरा तप बस यही-यही है-

सोच, सभी कुछ सहती हूँ।
मैं बोल-ओ सड़क, तुम्हारी
कठिन तपस्या भारी है,
तुमसे ही जीवन में गति है
जग इसका आभारी है!
बोली सडत्रक-याद यह रखना

नहीं रौंदना मुझको तुम,
नहीं तोड़ना, नहीं फोड़ना
तब जी लेंगे मिल हम-तुम!
तब से भाई, जान गया हूँ
बड़े काम की चीज सड़क है,
जो इस पर कूड़ा फैलाते
उनसे होती मुझे रड़क है!

(9)

घडी है करती टिक टिक टिक – Best Hasya Kavita For Kids

गाड़ी करती छुक छुक छुक
घंटी बजती ठुन ठुन ठुन
गुड़िया नाचे छुन छुन  छुन
घोडा भागे टप टप टप

पानी बरसे छप छप छप
चिड़िया करती चूँ चूँ चूँ
मुन्नी रोती ऊँ ऊँ  ऊँ 

(10)

नानी नानी सुनो कहानी – Hasya Kavita For Kids

नानी नानी सुनो कहानी
एक था राजा एक थी रानी
राजा बैठा घोड़े पर
रानी बैठी पालकी पर
बारिश आई बरसा पानी
भीगा राजा बच गयी रानी

25+ बच्चों की बाल कविता

हमरे द्वारा लिखी गई यहाँ आर्टिकल बच्चों के लिए हिन्दी हास्य कविता (hasya kavita for kids) जो खासकर के बच्चों के शिक्षा को ध्यान में रखते हुए लिखा गया है. जो बच्चों को कविताएँ के साथ-साथ खेल खेल में ट्रैफिक नियम, पानी बचाव, हमरे महान देश के बारे मैं बच्चो को शिक्षित करती है. जो बच्चों को पेरेंट्स को अवश्य रूप से सीखना चाहिए। यदि हमारा यहाँ पोस्ट आपको अच्छा लगता है तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे धन्यवाद।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment