What Is Stock Broker In Hindi? | स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है?

5/5 - (1 vote)

What Is Stock Broker In Hindi? | स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है?
What Is Stock Broker In Hindi? | स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है?

सभी ने कभी न कभी शेयर मार्किट के बारे में तो जरूर सुना होगा और अपने Stock Broker के बारे में भी जरूर सुना होगा तभी आपके मन में सवाल आया होगा की ये स्टॉक ब्रोकर क्या है(What Is Stock Broker In Hindi) और स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है(Stock Broker Kya Kam krta Hai) तो दोस्तों स्टॉक ब्रोकर से जुड़े कुछ सवालो के जबाब हम इस लेख की मदत से देने की कोशिस करेंगे।

Stock Broker के बारे में जानने से पहले आपको शेयर मार्किट के बारे में जानना चाहिए की शेयर मार्किट क्या है और कैसे काम करता है

इसके बाद स्टॉक ब्रोकर शेयर मार्किट में निवेश करने लिए अगली कड़ी है जिसके बारे में हम यहां विस्तार से बतयेंगे और Stock Broker से जुड़े सभी महत्पूर्ण चीजों के बारे में भी जानेंगे।

सभी ने कभी ना कभी शेयर बाजार में निवेश करने के बारे में जरूर सोचा होगा लेकिन शेयर बाजार में निवेश आप तभी कर सकते हो जब आप स्टॉक ब्रोकर के जरिये दमत और ट्रेडिंग अकाउंट खुलबा लेंगे और स्टॉक ब्रोकर क्या होता है और ये स्टॉक मार्केट के लिए जरूरी क्यों है हम इसके बारे में ही यहां जानेंगे।

तो चलिए जानते है की स्टॉक ब्रोकर क्या होता है (What Is Stock Broker In Hindi) और स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है।

स्टॉक ब्रोकर क्या होता है?(What Is Stock Broker In Hindi)

स्टॉक ब्रोकर Share Market में बहुत महतत्वपूर्ण कार्य करता है। दरअसल यह एक financial professional होते है जो ग्राहकों की ओर से शेयर बाजार में स्टॉक्स को खरीदने और बैचने का ऑर्डर को पूरा करते है। आप इनके बिना किसी भी कंपनी का ना तो शेयर बेच सकते है, ना खरीद सकते है, इसके लिए आपको एक बिचोलिये की जरुरत पड़ती है। उसी को स्टॉक ब्रोकर कहते है।

स्टॉक ब्रोकर्स SEBI के द्बारा रजिस्टर्ड होते है और Stock Exchange के सभी नियमो का पालन करते है ये शेयर मार्किट में निवेश करने वाले के आर्डर को BSE(Bombay Stock Exchange) या NSE(National Stock Exchange) के पास भेजते है उसके बाद जो भी शेयर खरीदना चहाता है और जो शेयर बेचना चाहता है उनका आर्डर मैच कराते है जिससे खरीदे हुए शेयर डीमैट अकाउंट में चले जाते है और ट्रेडिंग अकाउंट से पैसे Debit हो जाते है। और जो व्यक्ति शेयर बेच रहा था उसको उसे शेयर के बदले ट्रेडिंग अकाउंट में पैसे जमा हो जाते है।

इसके अलावा, एक स्टॉकब्रोकर को एक पंजीकृत प्रतिनिधि (Registered Representative) या एक निवेश सलाहकार(Investment Advisor) के रूप में भी जाना जाता है। अधिकांश स्टॉक ब्रोकर ब्रोकरेज फर्म के लिए काम करते हैं और कई व्यक्तिगत और संस्थागत ग्राहकों के लिए लेनदेन संभालते हैं।

जब भी कोई आर्डर पूरा होता है तो स्टॉक ब्रोकर अपनी फीस लेता है उससे फीस को Brokerage कहते है। ये ब्रोकेरगे सभी स्टॉक ब्रोकर की अलग अलग होती है, भारत में बहुत सी तरह के stock broker है जिनके बारे में हम आगे लेख में विस्तार से जानेंगे।

Stock Broker Meaning In Hindi

Stock Broker Meaning In Hindi: साफ सब्दो में स्टॉक ब्रोकर को स्टॉक मार्केट का दलाल कहते है, यह ग्राहकों की ओर से स्टॉक एक्सचेंज में खरीदने और बैचने के लिए ऑर्डर देते है और उस आर्डर को पूरा करने के लिए वह फीस लेते है जिसे ब्रोकरेज कहा जाता है।

स्टॉक खरीदने या बेचने के लिए प्रमुख Stock Exchange में से किसी एक की जरूरत होती है। इन एक्सचेंजों पर खरीद और बेच करने के लिए आपके पास डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए और ये डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट भी स्टॉक ब्रोकर ही खोलते है।


दोस्तों अब हम जानेंगे है की स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है और शेयर मार्किट में इसकी क्या भूमिका है।

स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है?

वैसे तो स्टॉक एक्सचेंज में खरीदने और बैचने के ऑर्डर को पूरा करता है। लेकिन इसके अलावा भी ब्रोकर फाइनेंसियल वर्ल्ड में सभी प्रकार के कार्यों से निपटता हैं। जैसे कि स्टॉक और सिक्युरिटी पर डेटा एकत्र करने से लेकर, वर्तमान बाजार स्थितियों का पालन करते है और सभी कानूनी नियमों से अवगत कराते है।

वे निवेशकों के लिए सहायक के रूप में काम करते हैं, वे उनके लिए सभी लेन-देन को पूरा करते हैं। इसके अलावा अकाउंटिंग पर्पज के लिए रिकॉर्ड बनाए भी रखते हैं।

एक ब्रोकर ग्राहकों के लिए एक सलाहकार के रूप में भी कार्य करता है। वे अपने ग्राहकों को जानकारी और सुझाव प्रदान करते हैं ताकि वे सही जगह निवेश कर सके और ग्राहक की वित्तीय परिस्थितियों को देखते हैं और उसके आवश्यकतानुसार इनवेस्टमेंट की स्ट्रेटजी बनाते है।

स्टॉक ब्रोकर कितने के प्रकार होते है

दोस्तों स्टॉक ब्रोकर दो प्राकर के होते है जिनका उल्लेख हमने निचे किया है, ये तो हम सब जान ही चुके है की स्टॉक ब्रोकर के हम शेयर मार्किट में स्टॉक की खरीद बेच नहीं कर सकते इसलिए स्टॉक ब्रोकर जरूरी है शेयर मार्किट किसी भी तरह के काम के लिए। अब बात अति है की कोनसा स्टॉक ब्रोकर चुने और कोनसा स्टॉक ब्रोकर अच्छी सुविधा प्रदान करता है। चलिए जानते है।

  1. फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर/Full Service Stock Broker
  2. डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर/ Discount Stock Broker

चलिए अब इन दोनों प्रकार के स्टॉक ब्रोकर के बारे में विस्तार से जानते है और समझते है की कोनसा स्टॉक ब्रोकर ज्यादा सुविधाजनक है और इनमे क्या क्या अंतर है।

#1. फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर/Full Service Stock Broker

फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर को Traditional Broker भी कहा जाता है ये स्टॉक ब्रोकर ग्राहक को बहुत सी सुविधा देते है जैसे Stock Advisory, IPOs में निवेश करने की सलहा, Investment Plans, Margin Facility और Portofolio को संभालना।

फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर की फीस बहुत ज्यादा होती है क्योकि ये शेयर मार्किट में निवेश से संबधित बहुत सी सर्विस देते है। ये फूल सर्विस ब्रोकर डीमैट अकाउंट खोलने से लेकर कोनसा शेयर निवेश करने के लिए सही तक की जानकारी देते है। इसके साथ ये हमेशा आपके Portofolio में अच्छे रेतुर्न देने वाले शेयर की सलहा देते है जिसे आपको ज्यादा से ज्यादा मुनाफा होता है।

फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर की ब्रांच ज्यादातर शहरों में होती है

फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर की विशेषताएं

  • फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर आपको 3 इन 1 अकाउंट खोलने की सुविधा देते है जिसमे Saving Account, Demat Account और Trading Account होता है।
  • शेयर मार्किट में निवेश करने की सलहा प्रदान करते है।
  • फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर की customer service बहुत अच्छी होती है।
  • ये निवेशक के लिए Long Term Investment Plans त्यार करते है।

भारत के कुछ प्रमुख फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर कोनसे है

  1. HDFC Securities
  2. Angel Broking
  3. ICICI Direct
  4. Share Khan
  5. Kotak Securities

#2. डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर/Discount Stock Broker

डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर फूल सर्विस स्टॉक ब्रोकर तुलना में सस्ते होते है जो आपको Demat और Trading अकाउंट बहुत कम कीमत में खोलने की सुविधा देते है। लेकिन डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर आपको stock advisory और research जैसी कोई सुविधा नहीं देते और साथ ही ये क्लाइंट के Portofolio को भी मैनेज नहीं करते।

Discount Stock Broker लोगो को बहुत पसंद आते क्योकि ये उसेर्स को लेटेस्ट टेक्नोलॉजी के साथ Online ट्रेडिंग softwares, और वेबसाइट प्रदान करते है जिसके जरिये डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के साथ शेयर मार्किट में निवेश करना बहुत आसान हो जाता है। ये शेयर खरीदने और बेचने का सभी काम ऑनलाइन ही करते है।

डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर बहुत कम Brokrage fees में शेयर को खरीदने और बेचने की सुविधा देते है। पहले जब कोई खरीदार शेयरों में पैसा निवेश करना चाहता था, तो वह अपनी ब्रोकरेज फर्म को फोन कर कंपनी के शेयरों को खरीदने के लिए अनुरोध करता था। लेकिन ऑनलाइन डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर की वजह से वह काम घर में बैठे-बैठे ऑनलाइन मोबाइल एप्प या वेबसाइट के माध्यम से हो जाता है।

डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर की विशेषताएं

  • तत्काल डीमैट खाता और ट्रेडिंग खाता खोलने की सुविधा प्रदान करते है।
  • डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर का कमीशन फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर के तुलना में कम होता है।
  • डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर भी मार्जिन और लिवरेज जैसी सुविधा देते है।
  • डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर एक्टिव डे ट्रेडर्स को सबसे छोटे कमीशन के साथ सेवाएं प्रदान करता है।
  • ये ब्रोकर अपने ग्राहकों को बेहतर ग्राहक सहायता प्रदान करते हैं।

भारत के कुछ प्रमुख डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर कोनसे है

  • Zerodha
  • Upstox(RKSV SECURITIES INDIA PVT LTD)(Upstox Review In Hindi)
  • Groww
  • 5Paisa(5PAISA CAPITAL LTD)

इन सभी डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर्स में कुछ प्रिशिद शेयर मार्केट की Best App भी है।


तो दोस्तों अबतक हमने जाना की स्टॉक ब्रोकर क्या है, स्टॉक ब्रोकर क्या काम करता है और स्टॉक ब्रोकर कितने के प्रकार होते है अब हम जानेंगे की क्या स्टॉक ब्रोकर अपने सर्विस की फीस लेता है। तो चलिए जानते है।

क्या स्टॉक ब्रोकर अपने सर्विस का फीस लेता है?

हां, स्टॉक ब्रोकर अपनी सर्विस की फीस लेते हैं जिसे ब्रोकरेज फीस भी कहते हैं। ब्रोकरेज फीस वह फीस होती है जो स्टॉक ब्रोकर आपसे किसी शेयर की खरीद और बेच पर लेता है। ब्रोकरेज स्टॉक ब्रोकर पर निर्भर करती है और ज्यादा तर सभी स्टॉक ब्रोकर की सर्विस चार्ज अलग अलग होते है।

इसके अलावा स्टॉक ब्रोकर अपने सर्विस में दमत और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने की फीस, नियमित रूप से व्यापार करने का शुल्क, वार्षिक रखरखाव शुल्क (Annual Maintenance Charge)(AMC), और निवेश डेटा की खोज के लिए फीस शामिल होते हैं।

फुल सर्विस ब्रोकर डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर की फीस में काफी अंतर होता है और फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर की तुलना में ज्यादा सर्विस फीस लेता है।

फुल सर्विस ब्रोकर को लेनदेन के आधार पर कमीशन का भुगतान किया जाता है। फुल सर्विस ब्रोकर की औसत शुल्क 5000-6000 होती है। इसके अलाबा फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर रिसर्च, देखभाल और सलाह के लिए भी सर्विस फीस लेता है।

वही डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर आमतौर पर निवेश सलाह नहीं देते हैं। डिस्काउंट ब्रोकरों डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए फीस 200 से 500 तक होती हैं, लेकिन कुछ डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर फ्री डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने की सुविधा देते हैं।

हालांकि वह ऑफर चेंज करते रहते हैं क्योंकि अधिक ग्राहकों को आकर्षित करने और बाजार हिस्सेदारी हासिल करने के लिए डिस्काउंट ब्रोकर लगातार अपनी फीस कम करते रहते हैं।

डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर का ब्रोकरेज फीस भी कम है जिससे बहुत से लोग डिस्काउंट ब्रोकर से साथ ही अकाउंट खुलबाते है।

क्या स्टॉक ब्रोकर मार्जिन फैसिलिटी भी देते है?

हां, स्टॉक ब्रोकर मार्जिन फैसिलिटी भी देते हैं।

वही इससे मार्जिन ट्रेडिंग भी कहते हैं। यह उस प्रक्रिया को कहते हैं जिसमें इन्वेस्टर अपने खर्च करने की शक्ति से ज्यादा स्टॉक्स पर खर्च करते हैं। मार्जिन ट्रेडिंग में इन्वेस्टर आमतौर पर स्टॉक खरीदने के लिए ब्रोकर से पैसे उधार लेते है। आप इसे लोन के रूप में समझ सकते हैं।

मार्जिन ट्रेडिंग आपको सामान्य से अधिक स्टॉक खरीदने की अनुमति देती है। इस पर व्यापार करने के लिए, आपको मार्जिन खाते की आवश्यकता होती है। 

अगर आप intraday trading करते है तो मार्जिन फैसिलिटी आपके लिए लाभ दायक होती है। अगर आप घर बैठे मार्जिन एक्सपोज़र की सुविधा चाहते है तो आपको discount stock broker के साथ अकाउंट खुलबाना चाहिए। क्योकि ये ब्रोकर आपको पांच गुना तक की मार्जिन एक्सपोज़र देते है।

मार्जिन अकाउंट के साथ व्यापार करने के लिए, आपको सबसे पहले अपने फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर से मार्जिन खाता खोलने के लिए अनुरोध करना पड़ता है। इसके लिए आपको ब्रोकर को नकद में एक निश्चित राशि का भुगतान करना होता है, जिसे मिनिमम मार्जिन भी कहा जाता है।


निष्कर्ष

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए स्टॉक ब्रोकर बहुत महत्पूर्ण कड़ी है क्योकि बिना Stock Broker के आप शेयर बाजार में निवेश नहीं कर सकते और एक अच्छा स्टॉक ब्रोकर चुनना भी बहुत जरूरी है क्योकि Stock Broker ही आपके निवेश को मंजूरी देता है जिसे आप शेयर खरीद पाते हो।

एक अच्छा stock broker के बारे में आप SEBI (Securities and Exchange Board of India) की वेबसाइट से भी जान सकते है और आपका ब्रोकर जितना काम ब्रोकरेज लेगा उतना आपको ही फायदा है।

तो दोस्तों ये थी स्टॉक ब्रोकर क्या होता है (What Is Stock Broker In Hindi) के बारे में समूर्ण जानकारी अगर अब भी आपको स्टॉक ब्रोकर को लेकर किसी तरह का कोई सवाल या दिक्कत है तो आप हमे कमेंट कर सकते है।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro