SEBI Kya Hai In Hindi और सेबी की कार्य शक्तियां क्या है

5/5 - (1 vote)
SEBI Kya Hai In Hindi और सेबी की कार्य शक्तियां क्या है
SEBI Kya Hai In Hindi

दोस्तों अपने कभी न कभी SEBI या Securities and Exchange Board of India के बारे में तो सुना होगा चाहे TV या किसी विज्ञापन में देखा होगा तभी आपके मन में ये सवाल जरूर आया होगा की ये आखिर सेबी क्या है (SEBI Kya Hai In Hindi) और सेबी क्या काम करता है तो इन्ही कुछ सवालो का जवाब हमने इस लेख में बहुत आसान भाषा में दिया है

अगर आप इस लेख को अंत तक पढ़ेंगे तो आपको जरूर पता चल जायेगा की ये SEBI Kya Hai In Hindi. सेबी कार्य , सेबी का फुल फॉर्म (Full Form Of SEBI In Hindi) , SEBI Ki Sthapna Kab Hui (सेबी की स्थापना कब हुई थी?)

दोस्तों सेबी की स्थापना से पहले शेयर बाजार में बहुत धांदले बाज़ी हुआ करती थी जिसके चलते आम जनता शेयर बाजार में निवेश करने से डरती थी

इस परस्तीति को देख ते हुए भारतीय सरकर ने सेबी का निर्माण किया। सेबी के गठन के बाद शेयर बाजार में होने बाला भ्रष्टाचार कम हो गए और तब से आज तक सेबी अपने काम को सही ढंग से करती आरही है।

सेबी क्या है? What is Sebi in Hindi

Securities and Exchange Board of India (SEBI) सिक्युरिटी मार्केट का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह सिक्युरिटी मार्केट को रेगुलेट करने और सिक्योरिटी में निवेशकों के हितों की रक्षा करने के लिए एक स्टेच्यूटरी रेगुलेटरी बॉडी है। यह सरकार द्वारा अप्रैल 1992 को स्थापित किया गया था।

What Is SEO In Hindi | SEO क्या होता है पूरी जानकारी

वही सेबी के पास स्टॉक एक्सचेंजों के अकाउंट की किताबों की जांच करने और परियोडिकल रिटर्न के लिए कॉल करने, स्टॉक एक्सचेंजों के उप-नियमों को मंजूरी देने, बैंकों जैसे financial intermediaries की किताबों का निरीक्षण करने, कुछ कंपनियों को लिस्ट होने के लिए मजबूर करने जैसे कार्यों को रेगुलेट करने और परफॉर्म करने का पावर हैं। SEBI एक या एक से अधिक स्टॉक एक्सचेंज, और दलालों के पंजीकरण को संभालता हैं।

सेबी को निदेशक मंडल द्वारा चलाया जाता है, जिसमें संसद द्वारा चुने गए अध्यक्ष, वित्त मंत्रालय के दो अधिकारी, भारतीय रिजर्व बैंक के एक सदस्य और संसद द्वारा चुने गए पांच सदस्य शामिल होते हैं।

सेबी का अर्थ | Meaning Of SEBI In Hindi

Securities and Exchange Board (SEBI) की स्थापना 12 अप्रैल 1992 को Securities and Exchange Board Act, 1992 के प्रावधानों के अनुसार की गई थी।

SEBI सिक्युरिटी मार्केट का स्टेच्यूटरी रेगुलेटरी बॉडी है। यह सभी केपिटल मार्केट पार्टिसिपेंट्स के लिए एक watchdog के रूप में कार्य करता है। इसका मुख्य उद्देश्य financial market के प्रति उत्साही लोगों के लिए वातावरण प्रदान करना है जो सिक्योरिटी मार्केट के इफिसेंट और स्मूथ संचालन की सुविधा में मदद करता है।

छत्तीसगढ़ लोक सेवा गारंटी पोर्टल (EDistrict CG) आय, जाति, निवास ऑनलाइन

सेबी की स्थापना कब हुई थी?

Securities and Exchange Board of India (सेबी) फाइनेंशियल मार्केट का रेगुलेट्री बॉडी है, जिसे 12 अप्रैल 1998 को स्थापित किया गया था। इसे शुरू में एक गैर-सांविधिक निकाय के रूप में स्थापित किया गया था, यानी इसका किसी भी चीज़ पर कोई नियंत्रण नहीं था लेकिन बाद में 1992 में इसे स्टेच्यूटरी पावर्स के साथ एक ऑटोनोमस बॉडी घोषित किया गया।

1970 के दशक के अंत में और 1980 के दशक के दौरान, केपिटल मार्केट भारत के व्यक्तियों के बीच नई सनसनी के रूप में उभर रहा था। वही अनऑफिशियल सेल्फ स्टाइलड मर्चेंट बैंकर, अनऑफिशियल प्राइवेट प्लेसमेंट, कीमतों में हेराफेरी, कंपनी अधिनियम के प्रावधानों का पालन न करना, स्टॉक एक्सचेंजों के नियमों और विनियमों का उल्लंघन, शेयरों की डिलीवरी में देरी, कीमतों में हेराफेरी, जैसे कई दुराचार होने शुरु हो गया था।

इन दुराचार के कारण लोगों का शेयर बाजार से विश्वास कम होने लगा था। जिसके बाद सरकार को यह देख अचानक काम को रेगुलेट करने और इन दुराचार को कम करने के लिए एक अथॉरिटी स्थापित करने की आवश्यकता महसूस हुई। 

जिसके बाद सरकार द्वारा SEBI को Securities and Exchange Board Act, 1992 के प्रावधानों के अनुसार स्थापित किया गया था।

सेबी का मुख्यालय मुंबई में बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स के व्यापारिक जिले में स्थित है। नई दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और अहमदाबाद शहरों में इसके क्षेत्रीय कार्यालय हैं, और बैंगलोर, जयपुर, गुवाहाटी, पटना, कोच्चि और चंडीगढ़ सहित शहरों में एक दर्जन से अधिक स्थानीय कार्यालय हैं।

सेबी का फुल फॉर्म | Full Form Of SEBI In Hindi

सेबी का फुल फॉर्म (Full Form Of SEBI In Hindi) या पूरा नाम Securities and Exchange Board of India है। सेबी सरकार के वित्त मंत्रालय के अधिकार क्षेत्र में भारत में प्रतिभूतियों और कमोडिटी बाजार के लिए रेगुलेट्री बॉडी है। यह 12 अप्रैल 1988 को स्थापित किया गया था और सेबी अधिनियम, 1992 के माध्यम से 30 जनवरी 1992 को वैधानिक शक्तियां दी गई थी।

Full Form Of SEBI In EnglishSecurities and Exchange Board of India
Full Form Of SEBI In Hindiसिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ़ इंडिया

सेबी की शक्तियां एवं कार्य (Functions and Power of Sebi in Hindi)

यह रेगुलेट्री अथॉरिटी सभी केपिटल मार्केट पार्टिसिपेंट्स के लिए एक वॉच डॉग के रूप में कार्य करती है और इसका मुख्य उद्देश्य फाइनेंशियल मार्केट के प्रति उत्साही लोगों के लिए ऐसा वातावरण प्रदान करना है जो सिक्योरिटी मार्केट के कुशल और सुचारू संचालन की सुविधा में मदद करता है। सेबी अर्थव्यवस्था में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऐसा करने के लिए, वित्तीय बाजार के तीन मुख्य प्रतिभागियों का ध्यान रखा जाता है। जैसे कि

  • #1. Issuers of security/सुरक्षा जारीकर्ता

ये कॉर्पोरेट क्षेत्र की संस्थाएं हैं जो बाजार में विभिन्न सोर्स में फंड रेज करता है। यह संगठन सुनिश्चित करता है कि उन्हें उनकी जरूरतों के लिए एक स्वस्थ और ट्रांसपेरेंट वातावरण मिले।

  • #2. Investor/निवेशक

निवेशक वे होते हैं जो बाजार को ऐक्टिव रखते या बाजार में लगातार निवेश करते रहते हैं। यह रेगुलेट्री अथॉरिटी एक ऐसे वातावरण को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है जो आम जनता का विश्वास बनाए रखता है और भ्रष्टाचार को खत्म कर अपनी मेहनत की कमाई को बाजारों में निवेश करते है।

  • #3. Financial Intermediaries/वित्तीय मध्यस्थ

 ये वे लोग हैं जो issuers और investors के बीच मिडिल मैन के रूप में कार्य करते हैं। वे वित्तीय लेनदेन को सुचारू और सुरक्षित बनाते हैं।

सेबी का इतिहास(History of SEBI)

Securities and Exchange Board (सेबी) को पहली बार 1988 में सिक्योरिटी मार्केट को रेगुलेट करने के लिए एक गैर-सांविधिक निकाय के रूप में स्थापित किया गया था। यह 30 जनवरी 1992 को एक ऑटोनॉमस बॉडी बन गई थी और इन्डियन पार्लियामेंट्री द्वारा सेबी एक्ट 1992 के पास होने के साथ इसे सच्युटरी पॉवर्स प्रदान की गईं थी।

सेबी का हेडक्वार्टरस मुंबई में बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स के व्यावसायिक जिले में है। इसके आलवा नई दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और अहमदाबाद में उत्तरी, पूर्वी, दक्षिणी और पश्चिमी में क्षेत्रीय कार्यालय हैं।  इसने जयपुर और बैंगलोर में स्थानीय कार्यालय खोले हैं और वित्तीय वर्ष 2013-2014 में गुवाहाटी, भुवनेश्वर, पटना, कोच्चि और चंडीगढ़ में भी कार्यालय खोले थे।

सेबी के अस्तित्व में आने से पहले केपिटल इश्यू का नियंत्रक रेगुलेट्री ऑथोरिटी था। वही सेबी को निदेशक मंडल द्वारा चलाया जाता है, जिसमें संसद द्वारा चुने गए अध्यक्ष, वित्त मंत्रालय के दो अधिकारी, भारतीय रिजर्व बैंक के एक सदस्य और संसद द्वारा चुने गए पांच सदस्य शामिल होते हैं।

दोस्तों हमने जाना की Sebi Kya Hai In Hindi और क्या काम करती है लेकिन अब हम जानेंगे की सेबी की शक्तियां क्या है।

सेबी की शक्तियां (Powers of SEBI)

सेबी के पास उच्च अधिकार और शक्ति होती है, क्योंकि इसका प्राथमिक उद्देश्य किसी भी धोखाधड़ी गतिविधि को रोककर बाजार को व्यवस्थित रूप से नियंत्रित करना है। इसकी तीन महत्वपूर्ण शक्तियाँ हैं:

  • #1. Quasi-Judicial/अर्ध न्यायिक

इसमें पूंजी बाजार के संबंध में कानून का लेगिस्लेशन तैयार करना शामिल है। इस अथॉरिटी की मदद से, किसी भी धोखाधड़ी गतिविधि के मामले में सुनवाई करने और निर्णय लेने का अधिकार है। इस अथॉरिटी का लाभ यह है कि यह आश्वासन देता है कि केपिटल मार्केट fairness, reliability and accountability प्रदान करता है।

  • #2. Quasi-Executive Functions/अर्ध-कार्यकारी कार्य

कानून लागू करना भी सेबी के अंतर्गत आता है। इसका मतलब यह है कि सेबी के पास निवेशकों के हितों की रक्षा के लिए नियम और कानून बनाने का पूर्ण अधिकार है।

  • #3. Quasi-Legislative/अर्ध-विधायी

इस खंड के तहत, सेबी की भूमिका निवेशकों के हितों की सुरक्षा के लिए गाइडलाइंस तैयार करना है। सेबी द्वारा बनाए गए कुछ नियम और विनियम disclosure requirements, trading regulation और listing obligation है।


निष्कर्ष

दोस्तों यहां हमने जाना की SEBI Kya Hai In Hindi और SEBI कैसे काम करती है साथ ही सेबी की शक्तियां के बारे में भी बताया है अगर आपको भी शेयर मार्किट के बारे में कोई गलतफैमी है की शेयर मार्किट में धोकादाड़ी है या शेयर मार्किट में शेयर पर लगे पैसे कंपनी लेके भाग गई तो क्या होगा, तो दोस्तों आपको बता दे की SEBI इसी चीज की देखभाल करती है की कोई भी शेयर बाजार में भ्रटाचार न करे।

तो SEBI Kya Hai In Hindi के बारे में लेख यहां समाप्त होता है और आपको लेख में दी जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर साझा करी और यदि आपका कोई सवाल है तो हमे कमेंट जरूर करे।

[FAQ’S] About सेबी से जुड़े पूछे जाने वाले अन्य सवाल

sebi के वर्तमान अध्यक्ष 2022

sebi के 2022 वर्तमान अध्यक्ष श्रीमती Ms. Madhabi Puri Buch है।

सेबी के प्रथम अध्यक्ष कौन थे

सेबी के प्रथम अध्यक्ष डॉक्टर एस ए दुबे थे ।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro