गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

Rate this post

Gold fish Ka Scientific Naam kya hai (गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है) : दोस्तों आज हम बात करेंगे goldfish ka scientific naam kya hai इसके बारेमें और साथ ही साथ हम बात करने वाले है इसके खाने के बारे में और ये कहाँ पे देखने के लिए मिलते है । हमारे दुनिया में हर वो जीव और वस्तु जो भी देखते है उन सब के नाम होते है, जिन्हे हम साधारण नाम बुलाते है पर scientist लोग उन सब को अपने और से नाम दीया है पहचानने के लिए । जिसे हम साइंटिफिक नाम (Scientific Name) से जानते है

अगर देखा जाये तो हम जो बी चीज हमारे सामने देखते है चाहे वो सजीव हो या फिर निर्जीव हो उनके दो प्रकार के नाम होते है एक है जिसे हम और आप जैसे आम आदमी पुकारता है और एक है scientist लोग बोलते है जिसे scientist लोग बुलाते है । आज हम बात करने वाले है gold fish के बारेमें तो आगे इसके ऊपर ज्यादा बात करने से पहले थोड़ा सा जान लेते है gold fish के बारे में ।

Gold Fish को हमेशा मीठा पानी में देखने के लिए मिलता है जिसका मतलब ये है की ये नमकीन पानी में जिन्दा नहीं रह सकता है, और इसे ज्यादातर लोग खाना पसंद नहीं करते है क्यों की ये इतना स्वादि नहीं होता है और ये देखने के लिए अत्यंत सुंदर और आकर्षित होता है जिसके कारन इसको ज्यादातर लोग पालतू बनके इसे Aquarium में रखते है , जिसे घर की सुंदरता में चाँद-चाँद लग जाता है। और इसे वास्तु शास्त्र के हिसाब से भी घर पर रखना शुभ माना गया है।

Goldfish मछली को आपको ज्यादातर लोगों के घर में या फिर hotel में आपको aquarium के अंदर देखने के लिए मिलते है । ये मछली आपको ज्यादातर Asia के अंदर देखने के लिए ही मिलता है। ये मछली करीबन 1000 साल पुराना है और गोल्डफिश मछली के अनेक सारे प्रजाति देखने के लिए मिल जाएंगे।

भारतीय क्रिकेट का इतिहास | History Of Indian Cricket In Hindi

इसके ज्यादा प्रकार के प्रजाति होने के कारन कुछ बोहोत छटे देखने के लिए मिलते है और कुछ बड़ी देखने के लिए मिलते है और बोहतो सारे प्रजाति के अंदर आपको तरह तरह के कलर देखने केलिए मिलते है ।

चलिए तो बिना कोई समय की देरी करते हुए जानते है goldfish ka scientific naam kya hai

Gold fish Ka Scientific Naam kya hai | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

Goldfish Ka Scientific Naam kya hai | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है
Goldfish Ka Scientific Naam kya hai | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

Goldfish का scientific नाम Carassius Auratus है । अगर इसी बैज्ञानिक नाम को हिंदी भाषा में बताऊ तो कैरासियस औराटस है । Gold fish ज्यादातर सुनहरी रंग के होते है जिसके लिए इसका नाम कारन इसके रंग के हिसाब से किया गया है।

Gold fish को हिंदी में ज्यादातर लोग सुनहरी मछली के नाम से ही जानते है । इसे दुनिया भर में अलग अलग नाम से भी जाना जाता है जैसे की Asian crap ( असिअन क्रॉप ) इसका रंग मुख्यतः ग्रे और सिल्वर होता है जो की मिलकर के लाल, नारंगी और पीला बनाते है ।

नेटवर्क मार्केटिंग क्या है (Network Marketing Kya Hai)

ये एक मीठे पानी रहने वाला मछली है जिसके वजह से इसे ज्यादातर समय में छोटी छोटी तलाव में भी देखने के लिए मिलता है । पहले के समय में लोग इसे अपने तालाब में ही रखा करते थे पर समय के हिसाब से पिछले कुछ 100 साल के अंदर इसे लोग अपने घर में Aquarium के अंदर रखते है ताकि घर की सोभा बढ़ सके ।

Gold fish का संक्षिप्त विवरण

गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम Scientific Name of Goldfish in Hindiकैरासियस औराटस (Carassius Auratus)
गोल्डफिश का हिंदी नामसुनहरी मछली
Goldfish का लैटिन नामकैरासियस गिबेलियो फॉर्मा ऑराटस
निवाश स्थानमीठा पानी
जीवन की अवधी10 से 15 साल
जाति (Category)कैरासियस
वजनज्यादा से ज्यादा 4.5 kg
लंबाईज्यादा से ज्यादा 45 सेंटीमीटर तक
PH रेंज6.5 से 8.5
मूल श्रोतचीन
तैराकी क्षेत्रपानी के सतह के नीचे
पानी का तापमान10 – 20 डिग्री सेल्सिअस

Gold fish का इतिहास | History Of Gold fish In Hindi

दोस्तों माना जाता है कि सुनहरी मछली अर्थात (Gold fish) का इतिहास आज से लगभग 1000 साल पुराना और अनोखा है, गोल्डफिश की उत्पत्ति चीन से हुई है। चीन के जिंहुआन जब लुशान पर्वत पर पहुंचे तो झील लाल चमड़ी वाली मछलियों से भरी हुई थी। लाल चमड़ी वाला क्रूसियन कार्प सुनहरीमछली का सबसे पुराना पूर्वज था। नतीजतन, यह मान लेना उचित है कि सुनहरीमछली की खोज पहले की गई थी.

और फिर अच्छे कामों के बदले चीन के जिन राजवंश द्वारा छोड़ दी गई थी। जिंग राजवंश के बाद मिंग और किंग राजवंशों में लोगों ने चांदी के रंग वाली प्रजाति के बजाए सुनहरे रंग वाली मछली को अपना पालतू बनाया और इसके बाद यहाँ खूब फला-फूला।

एंड्रॉइड क्या है ? ( What Is Android In Hindi )

नए चीन की स्थापना के बाद से, चीनी वैज्ञानिकों ने सुनहरी मछली के संरक्षण और प्रजनन में महत्वपूर्ण योगदान निभाया है। सुनहरी मछली (Gold fish) को 1502 में जापान में पेश किया गया था, और जापान ने द्वितीय विश्व युद्ध के बाद ताइवान के माध्यम से कई प्रजातियों की शुरुआत की। Gold fish को 17वीं सदी के अंत में यूनाइटेड किंगडम में, 18वीं सदी में यूरोप में और 1874 में संयुक्त राज्य अमेरिका में पेश किया गया था, और वे जल्दी से पूरी दुनिया में फैल गईं।

गोल्डफिश मछली के कई प्रकार के प्रजाति पाए जाते है , जो ग्रे और चांदी के रंग की प्रजातियों, की प्रवृति होती है कि वे लाल, नारंगी, या पीले रंग की होती है गोल्डफिश को एशियाई कार्प , सुनहरी मछली , कैरासियस औराटस जैसे नामो से भी जाना जाता है

1620 के दौरान, गोल्डफिश को धन , समृद्धि का प्रतीक माना जाता था. शादीसुदा पुरुषों के लिए यह परंपरा बन गई कि शादी की पहली सालगिरह पर वे अपनी पत्नियों को यहाँ सुनहरी मछली भेंट के तौर देते थे ,

Gold fish का अकार कैसे है ?

ज्यादातर goldfish को घर के अंदर रखा जाता है आज के समय में क्यों की इसके size उतना बड़ा नहीं होता है । एक gold fish की अकार 1 (2.5cm) इंच से 2 (5.1cm) इंच के अंदर होता है । Gold fish को अगर आप कही छोटे जगह में बंद करके रखते हो तो इसका अकार उतना ही रहता है पर अगर आप इसे कही बड़ी जगह पे यानि कोई तालाब में छोड़ देते है तो इसका अकार 14 इंच यानि 36 cm तक हो सकता है ।

आज तक आपने छोटे छोटे ही gold fish को देखा होगा पर एक बार Netherland में 2008 के समय में करीबन 19 इंच यानि करीबन 48cm की gold fish देखने के लिए मिला था और मन जाता है की आज तक की सबसे बड़ी मछली थी ये।

Gold Fish क्या खता है ?

Gold fish मुख्य रूप से कीड़े, पानी में रहने वाले घास और साथ साथ पानी में रहने वाले छोटे छोटे जीव को खाती हैं ,और सरे मछलियों की तरह ये भी है कभी भी खाना बंद नहीं करती है । और कई बार यहाँ देखने को मिलता है की गोल्डफिश ज्यादा खाना खाने की वजह से उनकी मौत भी जाती है क्यों की वो खाने को सही से पचा नहीं पते है । Gold fish को ज्यादातर पेड़-पौधे दिए जाते है खाने केलिए जिसमे carbohydrate होता है ।

रोचक तथ्य Gold Fish के बारे में

चलिए जानते है इसी goldfish के बारेमें और जड़ा और इसके बारेमें कुछ मजेदार बात जानते है जो की सायद ही आपको पहले से पता होगा

  • गोल्ड फिश आज तक की दुनिया में सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला Aquarium मछली है । इसे आप दुनिया के किसीबी कोने में जाके देख सकते है लोगों के एक्वेरियम के अंदर
  • आप कोई बी गोल्ड फिश को देख के उसकी उम्र का पता कर सकते है उसके सरीर पर हुए रिंग के नीसाण के देख के ये हर साल में एक रिंग अपने ऊपर बना लेता है
  • इनसान से ज्यादा रंग को देख सकता है एक gold fish जैसे की इंसान ज्यादातर पे 3 कलर जैसे की लाल, पीला और नीला रंग को देख पता है और उसीके combination सारे रंग दीखते है पर एक gold fish को 4 कलर दिखाई देती है ।
  • Gold fish को music की ज्ञान बी होता है एक बार जापान के बैज्ञानिकों ने इसके ऊपर परीक्ष्य किये थे और वकेहि में gold fish music को समझते है ।
  • जैसे इंसान की सिक्स्थ सेंस होती है ठीक वैसे ही गोल्ड फिश की बी होती है
  • Gold Fish को अगर आप अँधेरे जगह पे छोड़ डोज तो उसकी कलर चली जाएगी यानि लाइट नहीं तो कलर बी नहीं । एक बार किसीने एक gold fish को एक filter के अंदर में 7 साल रख दिया था और निकला तो सफ़ेद रंग का हो गया था ।
  • ये मछली अपने मुँह में आने वाले सारे मछली को खा सकती है
  • ये मछली लोगों के सकल को यद् रख सकती है
  • गोल्ड फिश एक बोहोत ही चालक मछली होती है जिसे आप सीखा सकते है तरह तरह के ट्रिक्स
  • एक गोडफिश बड़ा होक एक बिल्ली आकर उतना हो सकता है

निष्कर्ष (Conclusion)

आज हमने आपको बताया है की goldfish ka scientific naam Kya hai और साथ ही साथ हमने आपको बताया है की gold fish क्या कहती है और उसके size कैसे होती है और इसके बाद हमने आपको इसके बारेमें तमाम जानकारी दी जो की आपको सायद ही पता था पहले । असा करते है आज हमने आपको नयी जानकारी दे पाए है, अगर आपको हमारा ये जानकारी अच्छा लगा है तो आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये ।

[FAQ’S] About Gold fish Ka Scientific Naam kya hai | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

गोल्ड फिश कहां पाई जाती है

गोल्डफिश मछली सबसे अधिक चीन में पाई जाती है. क्योंकि गोल्डफिश की उत्पत्ति चीन से हुई है पालतू मछली के रूप में पाई गई थी. सुनहरी मछली भी समुद्र की गहराई में पाई जाती है. 

गोल्ड फिश की उम्र कितनी होती है

गोल्ड फिश की उम्र ज्यादा से ज्यादा 10 से 15 साल की होती है

गोल्डफिश का असली नाम क्या है

गोल्डफिश का असली नाम कैरासियस औराटस है

गोल्ड फिश क्या खाती है

गोल्ड फिश को जयादातर खाने में पेड़-पौधे , कीड़े , दिए जाते है

Sharing Is Caring:

Leave a Comment